Coronavirus conspiracy क्या है? लोगो की Theory क्या कहती है?

Conspiracy Theory

Strange theory of coronavirus conspiracy

कुछ लोग हर चीज की अपनी Theory बना लेते हैं! ऐसे ही एक तबका कहने लगा कि Coronavirus conspiracy है, और कुछ नहीं। उन लोगों का कहना है कि ये साजिश इस बार कोरोना से की जा रही है, और वो दावे के साथ कहते हैं कि ये साज़िश हम सबको कंट्रोल करने के लिए है, ये कुछ भी नहीं है। महज़ इसका भय फैलाया गया है।

क्या समझते हैं लोग?

इनकी Coronavirus conspiracy theory जैसी अन्य Theories भी इस धरा पर मौजूद है। जैसे अमेरिका का चांद पर जाना हो या अमेरिका पर 9/11 को हुआ आतंकी हमला। इस पर तो बड़े-बड़े रिसर्च पेपर्स लिखे जा चुके हैं, बाक़ायदा इसकी पूरी की पूरी वेबसाइटें वजूद में हैं और संस्थाएं भी, जो बताती हैं कि अमेरिका ने ये हमला ख़ुद अपने ऊपर करवाया था। बस, वैसे ही इनकी Coronavirus Conspiracy Theories भी है।

Conspiracy होती है, लेकिन…

इसमें कोई दो राय नहीं है कि मॉडर्न मेडिसिन की बड़ी-बड़ी फ़ार्मा कंपनियां बहुत Conspiracy करती हैं मगर ये Conspiracy हमेशा एक कंपनी और उसके टॉप मैनजमेंट तक सीमित रहती हैं। जहां बात सारी जनता और सारे विश्व की आ जाती है, वहां आप हर बात में Conspiracy या चाल नहीं ढूंढ सकते हैं। क्योंकि सारा विश्व मिलकर आपके ख़िलाफ़ Conspiracy नहीं कर रहा है। इस स्टेज पर Conspiracy नहीं होती है।

कोरोना Conspiracy नहीं है?

कोरोना हव्वा है या नहीं ये अलग मैटर है। आपको उस डर नहीं लग रहा है ये अलग बात है। मगर स्वास्थ्य संगठन उसके लिए सबको जागरूक ही करेगा। कोरोना मामूली सर्दी-ज़ुकाम से कहीं बढ़कर है। अगर आप कमज़ोर हैं तो ये आपके भीतर एक तरह का एडवांस निमोनिया बना देता है। कमज़ोर नहीं हैं तो पता भी नहीं चलता है कि आपको कोरोना हो गया है, लोगों को अस्पतालों में वेंटीलेटर की ज़रूरत पड़ रही ये जग ज़ाहिर है।

क्या कोरोना साज़िश के तहत है?

तो किसी कांस्पीरेसी के तहत मरीज़ अपनी मर्ज़ी से अपने मुहं में वेंटीलेटर नहीं घुसेड़ ले रहे हैं। लोगों को मई-जून की गर्मी में निमोनिया हो रहा है। सांस की नली चोक हो रही है फेफड़ा चोक हो रहा है लोगों का। लोग किसी साजिश के तहत अपने सीने में बलग़म नहीं भरे ले रहे हैं, ताकि आप लोगों के ऊपर सरकार का कंट्रोल हो सके।

कुछ लोग ऐसी आपदा में भी अपना फायदा तलाशते हैं

Bellwether

किसी भी आपदा में हर कोई अपने तरह से उसका फ़ायदा उठाता है। कुछ साल पहले मेरे शहर के पास एक रेल हादसा हुआ था। सैकड़ों लोग मारे गए थे, मेरे अपने दोस्त लोगों की जान बचाने वहाँ पहुंचे थे। मेरे दोस्तों ने वहां जो देखा उसे देखकर वो रो दिए। आसपास के गांव और कस्बे वाले मारे गए लोगों की लाशों के गहने और समान लूट कर भाग रहे थे। लाशें ट्रेन के डिब्बे और ट्रैक में फंसी थीं, और लोग उनकी अंगूठियां निकालने के लिये उंगलियां काट के ले जा रहे थे। हद तो तब हो गयी जब कुछ बुजुर्गों को मेरे दोस्त ने देखा कि एक बारह चौदह साल की बच्ची जो डिब्बे में फंसी थी, अपनी जान बचाने के लिए गुहार मचा रही थी। और वो बुज़ुर्ग लोग उसके स्तन दबा कर मज़े ले रहे थे।

सोचिये किस हद तक जा कर लोग एक दूसरे का फ़ायदा उठाते हैं। तो क्या उस ट्रेन के लड़ने में उन ग्रामीणों की कोई Conspiracy थी? ट्रेन लड़ी और फ़ायदा उठाने वाले टूट पड़े।

कोरोना के आते ही दुकानदारों ने लोगों को लूटा, सेनिटाइजर बनाने वालों ने लूटा। जो जहां पाया उसने वहां लूटा। और अब अस्पताल वाले लूटेंगे,
आगे बैंक वाले लूटेंगे, फिर कंपनी वाले अपने कर्मचारियों से दिन-रात काम करवा कर उन्हें लूटेंगे। मगर इसका मतलब ये नहीं कि स्वास्थ्य संगठन
किसी तरह का डर बैठा कर आपके भीतर इन लोगों को लूट के लिए प्रेरित कर रहा है।

बीमा कंपनियां बरसों से आपको डरा के लूट रही हैं, मगर उसकी आपको आदत पड़ चुकी है।

इलाज की कई सारी पद्धतियाँ है, लेकिन…

किसी भी एक पद्धति को, होमियोपैथी, आयुर्वेद या एलोपैथी को आप अंध सपोर्ट नहीं कर सकते हैं। न तो ये कह सकते हैं कि हर कोई होमियोपैथी से ठीक हो जाएगा न आप ये कह सकते हैं कि एलोपैथी ही सही है बाक़ी सब बकवास।

ये सब अति वाली बातें हैं। एलोपैथी का बोलबाला है क्योंकि उसके समर्थक ज़्यादा हैं।
सारा विश्व उसे सपोर्ट करता है और इसमें बड़ी फ़ार्मा कंपनियों का बड़ा मुनाफ़ा है
इसलिए उसके लिए वो बिल्कुल Conspiracy Theory रचते हैं मगर ये बात भी सच है
कि आज के इस युग मे सबसे ज़्यादा जान भी मॉडर्न मेडिसिन से ही बचती हैं।
वरना मामूली दस्त से लाखों बच्चे हर साल मर जाते थे, हैजा गांव के गांव साफ़ कर देता था।
तब वो गांव के गांव अपने आपको किसी Conspiracy के तहत नहीं मार डालते थे।

Mistakes you shouldn’t make for Conspiracy Theory

कोरोना से आप न डरिये, आप जवान हैं। मगर उन बुजुर्गों का थोड़ा ख़्याल कीजिये।
उन लोगों का जिनको पहले से बड़ी बीमारियां हैं। आप उन्हें बचाईये संक्रमित होने से,
आप जाईये लोगों से गले मिलिए और बताईये कि ये Conspiracy है सरकार की।
मगर अपने बच्चों और बुजुर्गों के साथ ये बेवकूफ़ी मत कीजिये।

हमारा देश इस हालत में नहीं है कि फिर से Lockdown संभाल सके,
और न ही हम लोग हर किसी को Ventilator दे पाएंगे,
इसलिए अब हमारे पास अपने आपको मज़बूत रखने के सिवा कोई Option ही नहीं बचा है,
और ये Virus भी अब उतना आक्रामक नहीं रह गया है,
इसलिए अब Immunity बढ़ा कर इससे निपटा जा सकता है।
मगर बचना अभी भी है हमें, और ये नहीं चाहना है कि Corona हमें हो जाये,
क्योंकि फ़लाना कह रहा है कि ये कुछ नहीं बस “Corona conspiracy” यानि एक तरह की साजिश है।


Leave a Reply

%d bloggers like this: