Ishwar Sab Dekh Raha Hai | ईश्वर सब देख रहा है

Ishwar-Sab-Dekh-Raha-hai

पता नहीं वो कौन लोग रहें होंगे, कैसे लोग रहे होंगे जिन्होंने ईश्वर को बनाया। और बनाए रखने के लिए तरह-तरह की स्थापनाएं और दलीलें भी खड़ी की। मैं जब कभी इन तर्कों की ज़द में आ जाता हूं, मेरी हालत ही विचित्र हो जाती है। ईश्वर वालों का कहना है कि ईश्वर हर जगह मौजूद है, Ishwar Sab Dekh Raha Hai ! थोड़ी देर को मैं मान भी लूं कि यह बात सही है, तो उससे होगा क्या?

मैं बाथरुम में नहा रहा हूं। एकाएक मुझे याद आता है कि बाथरुम में मैं अकेला नहीं हूं, कोई और भी है। जो मुझे टकटकी लगाकर देख रहा है। और ख़ुद दिख नहीं रहा है। यानि कि बदले में मैं कुछ भी नहीं कर सकता। हे ईश्वर, यह तू क्या कर रहा है? कई दिन बाद तो नलके में साफ़ पानी आया है और तू ऊपर खूंटी पर चढ़कर बैठ गया। अरे मैनर्स भी कोई चीज़ होती है, हे कृपानिधान! एक दिन तो ढंग से नहा लेने दे!

इसे भी पढ़िये: नास्तिक होना क्यों जरूरी है?

Ishwar Sab Dekh Raha Hai ! का मतलब होता है कि आपकी सारी Privacy खत्म हो गयी

आपको याद होगा जब आप अपने एक परिचित के घर पाखाने में विराजमान थे, चटख़नी ख़राब थी, किसी ने बिना नोटिस दिए दरवाज़ा खोल दिया और आप पानी-पानी हो गए थे। और इधर तो टॉयलेट में ईश्वर मेरे साथ है! अब क्या करुं? यह सर्वत्र विद्यमान किसी भी ऐंगल से आपको देख सकता है -ऊपर से, नीचे से, दायें से, बायें से… कहीं से भी। मन होता है कि क्यों न पटरी किनारे खेत में चलकर बैठ जाऊं! अब बचा ही क्या? सारी Privacy की तो ऐसी की तैसी कर दी आपके ईश्वर महाराज ने।

यह ग़ज़ब की Philosophy है कि Ishwar Sab Dekh Raha Hai!
और कह कुछ भी नहीं रहा। इससे ही बल मिलता होगा कर्मठ लोगों को।
वह आदमी भी तो कर्मठ है जो Synthetic Milk बना रहा है।
वह बना रहा है और ईश्वर बनाने दे रहा है।
तो सीधी बात है ईश्वर उसके साथ है। तो फिर डरना किससे है?
इसीलिए वह मज़े से होली-दीवाली पर छोटे डब्बेवालों को इंटरव्यू देता है।
मुंह पर ढाटा क्यों बांध रखा है इसने? यह शायद प्रतीकात्मक शर्म है!
वरना तो उसे पता ही है कि चैनल वाले और देखने वाले, सभी ईश्वर के मानने वाले हैं।
मैं Synthetic Milk बनाता हूं तो ये Synthetic News बनाते हैं।
सब एक ही ख़ानदान के चिराग़ हैं, एक ही ईश्वर की संतान हैं।

ऐसे कर्मठ लोग भरे पड़े हैं हर धंधे में। Ishwar Sab Dekh Raha Hai! मगर कह कुछ भी नहीं रहा!
फिर कुछ रोकने का सवाल ही कहां आता है?

ईश्वर को यह बात अजीब लगे न लगे, मुझे बहुत अजीब लगती है।


2 thoughts on “Ishwar Sab Dekh Raha Hai | ईश्वर सब देख रहा है

Leave a Reply

%d bloggers like this: